हम इश्क-ए-मुजरिम है

हम इश्क-ए-मुजरिम है ,ए-दर्द थोड़ी तो दया करो

मायसार दिन भर ,रिवायत बदला करो

जुस्तजू लगी है साँसों की ..इक़बाल-ए-इश्क़ से

क्या मिलेगा मुझको …इज़हार-ए-इश्क़ से

तू नूर सा फैला हुआ … हर्फ़-ए-अल्फ़ाज़ मे

अब आ गए तेरे दर …थोड़ा मुख्तलिफ करो

हम इश्क-ए-मुजरिम है ,ए-दर्द थोड़ी तो दया करो

मायसार दिन भर ,रिवायत बदला करो

सिफर हुआ ज़ज़्बातो का …जो लुटा दिए तुम पर

अश्क़ आँखों से निकले … जो बहा दिए तुम पर

खवाबो में फैला हुआ…. तू खवाबदीदा है ..

लूटी हुई धड़कनो को …पढ़ लिया करो

हम इश्क-ए-मुजरिम है ,ए-दर्द थोड़ी तो दया करो

मायसार दिन भर ,रिवायत बदला करो

SuDhi

#SuDhi

Advertisements

33 thoughts on “हम इश्क-ए-मुजरिम है

Add yours

  1. ⚫️
     ⚫️
    ⚫️                   🔺🔺
    ⚫    ⚫️⚫️      ⚫️⚫️
    ⚫️ ⚫⚫️⚫️  ⚫️👀⚫️
    ⚫️⚫️⚫⚫️⚫️🎈⚫️
    ⚫️⚫️        ⚫️⚫️
    ⚫️⚫️          ⚫️
      ⚫️                ⚫️
        ⚫️                 ⚫️
          ✖️                 ✖️

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: