करवाचौथ

आज करवा चौथ है,

वो ठंडी ठंडी हवाएं, रूह को ऐसे छू के गुजर रही थी, मानो जेठ की गर्मी में बे मौषमी बारिश मिल गई हो, आज की शाम में कुछ अलग ही रंग था, कुछ अलग ही जश्न कुछ अलग ही नशा, आज वो भी कपल साथ मे दिख रहे थे जिन्होंने लड़ने के सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए हों।

सोम्या छत पे बैठ के सामने के होटल में इक्कठे हुए लोगों को देख रही थी और सोच रही थी।

तभी उसने देखा, कुछ होस्टल की लड़कियां आ रही थी पर क्यों इतनी रात में, यहाँ, एक मिनट सच में आज इनका भी व्रत है, उम्म हो सकता है इंगेजमेंट हो गई हो, अपने होने वाले पति के साथ आई हो,

(अचानक सोम्या का फोन बजा तो वो अपने ख़यालो से बाहर आई)

हाए सोम्या

हेलो निशु कैसी है तु

मैं अच्छी हुँ, तु कहाँ है, ओर ये मनवीरा होटल तो तेरे घर के पास है ना

(निशु ने एक ही सांस में सब पूछ लिया)

अरे मेरी जान रुक जा, हा मेरे घर के पास ही है, पर तु क्यों पुछ रही है

मैं अविनाश के साथ आई हुँ यहाँ, करवाचौथ का व्रत भी तो खोलना था, वरना होस्टल में तो ये नहीं आ पाते।

पर निशु तुने बताया था तेरे यहाँ तो इस व्रत को नहीं माना जाता, मतलव तु तो जानती भी नहीं इसे कैसे, ओर क्यो रखा जाता है, ओर तु तो अविनाश से शादी भी नहीं करने वाली थी।

अरे अब कौनसा मैं उससे शादी कर रही हुँ, वो चाहता था मैं उसके लिए व्रत करू तो कर लिया, वैसे भी वो मेरे टाइप का नहीं है, बॉयफ्रेंड तक ठीक है, पुरी लाइफ नहीं बर्दाश्त कर सकती मैं इसे, अच्छा चल अविनाश आ गया,बाए अगर पॉसिबल हो तो आ जइयो यहाँ बहुत मस्ती करेंगे।

(निशु ने बोलके फोन कट कर दिया)

सोम्या ये सब सुनके बोखला गई थी, समझ नहीं पा रही थी आज में मोर्डन होना गलत है या सही

ये व्रत उसने आज तक उसकी माँ से सुना था कि ये बहुत पवित्र होता है, जब तुम्हारी शादी हो जाती है तब ये व्रत करने से पति की आयु बढ़ती है, घर मे सुख शांति आती है, हर विवाहित इस्त्री के लिए बहुत जरूरी होता है ये व्रत, एक बार व्रत सुरु कर दो तो जब तक आपके बेटे की बीवी ये व्रत करना सुरु ना करे, तब तक आप छोड़ भी नहीं सकते।

पर ये सब तो इसकी पवित्रता का मज़ाक उड़ा रहे हैं, उसे पता है कि उनकी शादी नहीं होगी तब भी बस दिखावे के लिए इसका मजाक बना रहे है।

वो खुद से पूछने लगी ,

क्या जरूरी है आज की जनरेशन में इतना दिखावा करना, अगर आप किसी से प्यार करते हैं, उसके लिए व्रत किया है तो इतनी हिम्मत रखना, चाहे तुम्हारे माँ बाप तुमसे दूर हो जाए, या दुनिया यहाँ से वहाँ हो जाये तब भी आप उसके साथ रहोगे।

अगर नहीं कर सकते तो प्लीज इतनी पवित्र चीजों का मज़ाक मत बनाइये, आपकी माँ से पुछ के देखिए क्या वो किसी गैर-मर्द के बारे में कभी सोच भी सकती है।

आप भी कल आपकी माँ की जगह होंगे, आपका पति आपके बच्चे, थोड़ा प्यार, थोड़ी पवित्रता उनके लिए भी बचा के रखिये।

कहीं बाद में खुद को भी फेस करने में डर ना लगने लगे, ज्यादा नहीं थोड़ी तो इज्ज़त दे दीजिए इतने पवित्र त्योहार को।

बॉयफ्रेंड होना गलत नहीं है, ओर ना ही प्यार करना गलत है, गलत है तो सिर्फ हम लोग जो प्यार को प्यार नहीं समझते, बस अपनी जरूरतों को पुरा करते हैं, कभी अकेले हैं तो टाइम पास चाहिए, कभी फिजिकल नीड्स हैं तो कभी मेंटली, बस प्यार को एक जरूरत की चीज बना दिया है हमने, आज लोगों को आँखों में देख के प्यार नहीं होता, ना ही उसके दिल से ओर रूह से, प्यार होता है तो बस को कितना सुंदर है, प्यार होता है कौन कब किसकी जरूरत है, प्यार होता है कब किसके पास कितना पैसा है, मैं आपकी बात नहीं कर रही, मैं भी आप सबमें से ही एक हुँ, शायद हम बदल गए हैं और हमें फिर से बदलने की जरूरत है , इस बार कुछ अच्छे के लिए, अपने परिवार के लिए अपनों के लिए, अपने संस्कारों के लिए, अपने त्योहारों के लिए।

#SuDhi

SuDhi

#karvachoth_spcl #loveartical #lovelife #lovestory #love #sudhi #upcomingnovel #shortpart

3 thoughts on “करवाचौथ

Add yours

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: