Silence Tear

Today, one year later, Soumya was watching Vivaan, her eyes collided coincidentally That too suddenly She wanted to speak a lot Hey Vivan Do you know what? Whenever I thought that I am not this, it is we,I felt you, i felt i was around you, when I was lost in a long crowd of... Continue Reading →

करवाचौथ

आज करवा चौथ है, वो ठंडी ठंडी हवाएं, रूह को ऐसे छू के गुजर रही थी, मानो जेठ की गर्मी में बे मौषमी बारिश मिल गई हो, आज की शाम में कुछ अलग ही रंग था, कुछ अलग ही जश्न कुछ अलग ही नशा, आज वो भी कपल साथ मे दिख रहे थे जिन्होंने लड़ने... Continue Reading →

वो लड़की

बंद मुठी रेत की जो यु हाथों से झरने लगती है निराशा से वो लड़की आज यु मरने लगती है कशुर ना था उसका दबोचा किसी ने जो था पीछे से शर्मशार कर इनायत को खरोंचा जो सिने से वो तरप रही झल्ला रही खींचा जो कोने में वो लड़की आज खुद साये में भी... Continue Reading →

WordPress.com.

Up ↑