तेरे करीब आने से

मैं खुद को भुल जाती हुं, तेरे करीब आने से की मैं मैं नहीं रहती, तेरे मुझको बुलाने पे मेरी आँखों की हया, ओर धड़कनों की सरगम कुछ गुनगुनाती है, तेरी सुरत दिखाने पे तलब मुझको युं तेरी है, की सीने से मैं लग जाऊ मैं दुनिया भुला दुं गी, तेरे महोबत्त दिखाने पे ना... Continue Reading →

Advertisements

Intjar Rhega Hume

Intjar rhega hume ! Tumhare ek dfa Ane ka Vo mithi bato ka Hwa sang lhrane ka ! Han Intjar rhega hume ! Tumhara ahsash me jine ka Sang sur gane ka Najdikiya bdhane ka ! Han Intjar rhega hume ! Tumhare pass aane ka Pyar Mhobat to sukun Or tumhari aankho me kho jane... Continue Reading →

ज़िंदगी

बड़ी बेशर्म सी होती जा रही है ज़िंदगी जिसकी जरूरत है उसी से दुर जा रही है ज़िंदगी #SuDhi SuDhi

WordPress.com.

Up ↑