तेरे करीब आने से

मैं खुद को भुल जाती हुं, तेरे करीब आने से की मैं मैं नहीं रहती, तेरे मुझको बुलाने पे मेरी आँखों की हया, ओर धड़कनों की सरगम कुछ गुनगुनाती है, तेरी सुरत दिखाने पे तलब मुझको युं तेरी है, की सीने से मैं लग जाऊ मैं दुनिया भुला दुं गी, तेरे महोबत्त दिखाने पे ना... Continue Reading →

Intjar Rhega Hume

Intjar rhega hume ! Tumhare ek dfa Ane ka Vo mithi bato ka Hwa sang lhrane ka ! Han Intjar rhega hume ! Tumhara ahsash me jine ka Sang sur gane ka Najdikiya bdhane ka ! Han Intjar rhega hume ! Tumhare pass aane ka Pyar Mhobat to sukun Or tumhari aankho me kho jane... Continue Reading →

Gentle Love

I am kissing you politely No sound, no disturbance with no clarification I wanna bite you softly on lips So can lick your intense blood I can feel your breathing, so hard Your intense feeling making me so tough This night, let you to the exotic adventure Touching you softly like a pearl

Dark Night

It was a dark night, so creepy and scary I was a solitary man, on the way to go back home Creatures sounding like a howl from at a distant A deluge of rain and blood-curdling thunderstorm Leisurely I was walking and

तू कहीं बाकी हैं

बिछड़ के भी आज तू मुझ में कहीं बाकी है । बगल के शहर से भी गुजरो तो भी तू महक जाती है कोई पहला अक्षर भी बोले जो नाम का तेरे बस वो यादें उगलने के लिए काफी है । ना बन पाए किसी और के , हम आज भी हैं तेरे क्या ये... Continue Reading →

बेरुखी/Ridiculous

इस बेरुखी पे कहा अब जाएं ख़ुदा वो लड़ते हैं मग़र समझाते जाते नहीं हमने रखा है उनको छूपा के बड़ा वो पास आते नहीं हम दुर जाते नहीं This is ridiculous now show the way where i can go He fight with me but do not understand I've kept him hidden Everytime everyday from... Continue Reading →

धडक़न/Flutter

मैं सोच सोच में सोच से हारी तुमने कुछ सोचा ही नहीं मैं साथ रहुं या दुर कहीं तुमने मुझसे पुछा ही नहीं मैं सहमी सी कुछ बदली सी की तुझको तो कुछ पता नहीं मैं आदत थी कब बदल गई तुम्हें मालूम था मुझे पता नहीं मैं सोचूँ की सब ख़त्म हुआ पर हुआ... Continue Reading →

महफुज

महफुज बताते बेटी को, वो घर के बंद दरवाजों में बता कहाँ लुटी द्रोपदी, घर में या बाजारों में इज्ज़त ओर इजाज़त में बस फ़र्क यहाँ आ जाता है अपनी बहन को उड़ाने दुपट्टा वो छिन किसी का लाता है आंखों में शराफत भी तो गिरगिट सा रंग बदलती है चौराहे पे चलती लड़की माल... Continue Reading →

WordPress.com.

Up ↑