Intjar Rhega Hume

Intjar rhega hume ! Tumhare ek dfa Ane ka Vo mithi bato ka Hwa sang lhrane ka ! Han Intjar rhega hume ! Tumhara ahsash me jine ka Sang sur gane ka Najdikiya bdhane ka ! Han Intjar rhega hume ! Tumhare pass aane ka Pyar Mhobat to sukun Or tumhari aankho me kho jane... Continue Reading →

ज़ाहिल

ज़ाहिल ही सही ,हां हुँ मैं पुराने ख़्यालयत की किसी के लिए नहीं गवा सकती, इज्जत माँ बाप की #SuDhi SuDhi

हक

हक से चाहे मुझे डांट ले कोई गले लगा गम बांट ले कोई #SuDhi SuDhi

वक़्त

आँखे टिकाओ या दिल सजाओ दरवाजे पे आने वाले वक़्त से पहले नहीं आते #SuDhi SuDhi

त्याग

त्याग दी ख्वाहिश उसने कुछ करने के लिए जैसे राम ने सब खोया था "श्री राम" बनने के लिए आरजु ओर दुआ सब छुपा के बैठे हैं खुद में वनवास काटना है उन्हें भी मग़र खुद के लिए मुझे समझ कर भी उन्होंने नजरअंदाज कर दिया जैसे लक्ष्मण ने किया था उर्मिला को कुछ पल... Continue Reading →

Ahsaas

Bs khyal hi to likhte hai Apne jajbaat hi to likhte hai Na sahar na gliyo ki fikr SuDhi Hum Apne ahsaas hi to likte hai SuDhi #SuDhi

WordPress.com.

Up ↑