हक

हक से चाहे मुझे डांट ले कोई गले लगा गम बांट ले कोई #SuDhi SuDhi

Ahsaas

Bs khyal hi to likhte hai Apne jajbaat hi to likhte hai Na sahar na gliyo ki fikr SuDhi Hum Apne ahsaas hi to likte hai SuDhi #SuDhi

Surur

कदमो को रोकू कैसे जो हर पल तेरी और बढ़ता हैं ख़्वाबीदा सी महोबत का सुरूर बस तेरे लिए चढ़ता है SuDhi #SuDhi

WordPress.com.

Up ↑